Science And Technology In India

Description

The Indian science tradition is one of the oldest scientific traditions in the world. The origin of science in India has been 3000 years ago. The evidence of the Sindh Valley derived from an excavation of Harappa and Mohenjodaro reveals the scientific view of the people there and the experiments of scientific instruments. Aryabhatta, Brahmagupta and Aryabhatta II in the field of Charak and Sushrut, Astronomy and Mathematics in the field of Medical Science in ancient times And Nagarjuna's discoveries are very important in Chemistry. His discoveries are still being used in some form.

भारतीय विज्ञान की परंपरा विश्व की प्राचीनतम वैज्ञानिक परंपराओं में एक है। भारत में विज्ञान का उद्भव ईसा से 3000 वर्ष पूर्व हुआ है। हड़प्पा तथा मोहनजोदड़ो की खुदाई से प्राप्त सिंध घाटी के प्रमाणों से वहाँ के लोगों की वैज्ञानिक दृष्टि तथा वैज्ञानिक उपकरणों के प्रयोगों का पता चलता है। प्राचीन काल में चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में चरक और सुश्रुत, खगोल विज्ञान व गणित के क्षेत्र में आर्यभट्ट, ब्रह्मगुप्त और आर्यभट्ट द्वितीय और रसायन विज्ञान में नागार्जुन की खोजों का बहुत महत्त्वपूर्ण योगदान है। इनकी खोजों का प्रयोग आज भी किसी-न-किसी रूप में हो रहा है।

Today, the nature of science has evolved quite well. Scientists are increasingly searching all over the world. In the race of these modern scientific discoveries, Jagdish Chandra Basu, Prafulla Chandra Rai, C. V. Raman, Satyendra Nath Bose, Meghnath Saha, Prashant Chandra Mahalobis, Srinivas Ramanujam, Hargovind Khurana etc. are involved in vegetation, physics, mathematics, chemical, mechanics, medicine Science, Astronomy etc. has significant contribution in areas.

आज विज्ञान का स्वरूप काफी विकसित हो चुका है। पूरी दुनिया में तेजी से वैज्ञानिक खोजें हो रही हैं। इन आधुनिक वैज्ञानिक खोजों की दौड़ में भारत के जगदीश चंद्र बसु, प्रफुल्ल चंद्र राय, सी. वी. रमन, सत्येंद्रनाथ बोस, मेघनाथ साहा, प्रशांतचंद्र महाललोबिस, श्रीनिवास रामानुजम, हरगोविंद खुराना आदि का वनस्पति, भौतिकी, गणित, रसायन, यांत्रिकी, चिकित्सा विज्ञान, खगोल विज्ञान आदि क्षेत्रों में महत्वपूर्ण योगदान है।