The ozone layer protects us from the ray

Description

Ultraviolet Rays (पराबैंगनी किरण)

The ultraviolet` ray is a type of electromagnetic radiation, whose wavelength is smaller than direct light and is more than soft X-ray. These are said to be because, because they have spectrum, electromagnetic wave whose frequency is above human visually impaired violet

पराबैंगनी किरण  एक प्रकार का विद्युत चुम्बकीय विकिरण हैं, जिनकी तरंग दैर्घ्य प्रत्यक्ष प्रकाश से छोटी हो एवं कोमल एक्स किरण से अधिक हो। इनकी ऐसा इसलिए कहा जाता है, क्योंकि, इनका वर्णक्रम लिए होता है विद्युत चुम्बकीय तरंग जिनकी आवृत्ति मानव द्वारा दर्शन योग्य बैंगनी वर्ण से ऊपर होती हैं

Search (खोज)

In 1801, John Wilham Reiter did a typical observation that indirect rays (above) beyond the purple light, darken the paper in the salt of the Silver Negri. He called them de-oxidizing rays so that their chemical processes could be emphasized and they could be distinguishable from the heat rays present at the other end of the spectrum. In the end, a simple word chemical ray was used.

1801 में जोहन्न विल्हैम रिटर ने एक विशिष्ट प्रेक्षण किया, कि बैंगनी प्रकाश के परे (ऊपर) अप्रत्यक्ष किरणें, रजत नीरेय के लवण में भीगे कागज को काला कर देतीं है। उसने उन्हें डी-ऑक्सिडाइजिंग किरणें कहा जिससे कि उनकी रसायनीय क्रियाओं पर बल दिया जा सके साथ ही इन्हें वर्णक्रम के दूसरे सिरे पर उपस्थित ऊष्म किरणों से पृथक पहचाना जा सके। कालांतर में एक सरल शब्द रासायनिक किरणें प्रयोग हुआ।