Who was the Nawab of Bengal during the Battle of Buxar

Description

Mir Jafar (मीर जाफर)

Mir Jafar was the nawab of Bengal from 1757 to 1760. Initially, he was the commander of Sirajuddaula. He was a man who used to dream the same night every day that when he would become a Nawab of Bengal. He got along with Robert Clive in Battle of Plassey because Robert Clive gave the lure of Mir Jafar to make the Nawab of Bengal. This incident is considered to be the beginning of the establishment of the British Raj in India, and later, the name of Mir Jafar became the subject of 'traitor' and 'Guadar' in the Indian subcontinent.

 

मीर जाफ़र 1757 से 1760 तक बंगाल का नवाब था। शुरु में वह सिराजुद्दौला का सेनापति था। वह ऐसा आदमी था जो दिन रात एक ही सपना देखता था की वो कब बंगाल का नवाब बनेगा। वह प्लासी के युद्ध में रोबर्ट क्लाइव के साथ मिल गया क्योंकि रोबर्ट क्लाइव ने मीर जाफ़र को बंगाल का नवाब बनाने का लालच दे दिया था। इस घटना को भारत में ब्रिटिश राज की स्थापना की शुरुआत माना जाता है और आगे चलकर मीर जाफ़र का नाम भारतीय उपमहाद्वीप में 'देशद्रोही' व 'ग़द्दार' का पर्रयायवाची बन गया।

Born-- 1691, Delhi

Died--17 January 1765, Bengal, Birbhum district

Buried-- Jafarganj Cemetery

Successor-- Mir Qasim

Children-- Najmuddin Ali Khan, Ashraf Ali Khan, Najabat Ali Khan, Mubarak Ali Khan of Bengal

 

Siblings-- Mir Kazem Khan