Banswara District Information About,Famous Places,Fairs And Temples Pin Code 327001

Rajasthan Districts 0 Comments
banswara-district-map

Banswara District Information About,Famous Places,Fairs And Temples

We are uploading rajasthan Gk one by one topic  today upload  Banswara District Information About,Famous Places,Fairs And Temples ,Pin Code 327001 and The Banswara district lies in the southernmost part of Rajasthan. It is surrounded by Pratapgarh in the north, Dungarpur in the west, Ratlam and Jhabua districts of Madhya Pradesh in the east and south and Dahod district, Gujarat to the south. and The 8 development blocks in the district are: Talwara, Garhi, Ghatol, Peepal Khunt, Bagidora, Anandpuri, Kushalgarh and Sajjangarh. The district consists 5 Vidhan Sabha constituencies, Kushalgarh, Danpur, Ghatol, Banswara and Bagidora.pin cord and  this topice always useful for RAS,IAS,1st.2nd,3rd grad teacher, and gramsevk,patwar,rajasthan police SI, and other all Competitive Examination

बांसवाड़ा  की प्रशासनीक इकाईयां  Administrative units of Banswara

banswara-district
banswara-district

Position = 23011 ‘to 230 56’ north latitude

= 730 58 ‘740 by 49’ east longitude

Area is 5037 square kilometers

Subsection = 11

Tehsil = 11

Panchayat Samiti = 11

Division = Udaipur

Installation = Maharawal Jagmal Singh’s son Uday Singh Bhil Bnsia established his name on the winning side of the bamboo forests, the name had to Banswara.

Banswara other name = “city of a hundred lights, called the Rajasthan’s ‘Cherrapunji’ name is called

स्थिति = 23०11′ से 23० 56′ उत्तरी अक्षांश

73० 58′ से 74० 49′  पूर्वी देशांतर

क्षेत्रफल = 5037 वर्ग किलोमीटर

उपखण्ड = 11

तहसील = 11

पंचायत समिति = 11

संभाग =  उदयपुर

जनसख्या =  17.98 लाख (2011)

दशकीय वृद्धिदर = 26.58%

लिंगानुपात = 979 (1000)

साक्षरता = 57.20% Total (70.80%) Male and (43.47%) Female

स्थापना = महारावल उदय सिंह के पुत्र  जगमाल सिंह ने बंसिया भील से जीत लेने पर उसी के नाम से इसकी स्थापना की ओर   बांस के जंगलों के कारण इसका नाम बांसवाड़ा पड़ा।

अन्य नाम = बांसवाड़ा को ‘सौ दीपों का शहर‘ के नाम ओर इसे राजस्थान का ‘चेरापूंजी‘ नाम से भी कहा जाता है

महत्वपुर्ण जानकारी Important information

That is 23 1/2 degrees latitude south of the Tropic of Cancer in Rajasthan, Dungarpur, Banswara districts to pass.

Most of the city, near the Tropic of Cancer is the city of Banswara, Rajasthan.

Integration time ruler of Banswara, Rajasthan King Chandravir Singh said while signing the merger integration, “Hun signing my death warrant.”

Borkud southern extension of Rajasthan village, has spread to Banswara.

Mansun gateway to Rajasthan – Banswara district considered

The asymmetry of the lowest rainfall in Rajasthan district – is considered Banswara

कर्क रेखा अर्थात 23 1/2 डिग्री अक्षांश राजस्थान के दक्षिण में बांसवाड़ा ओर डुंगरपुर जिलो से गुजरती है।

बांसवाड़ा शहर कर्क रेखा से राजस्थान का सर्वाधिक नजदीक शहर है।

एकीकरण के समय बांसवाड़ा के शासक राजा चन्द्रवीर सिंह ने राजस्थान एकीकरण विलय पत्र पर हस्ताक्षर करते समय कहा था कि “मैं अपने डेथ वारंट पर हस्ताक्षर कर रहा हुं”।

राजस्थान का दक्षिणी विस्तार बोरकुड गांव, बांसवाड़ा तक फेला हुआ है।

राजस्थान में मानसुन का प्रवेश द्वार – बांसवाड़ा जिले को माना जाता है

राजस्थान में वर्षा की सबसे कम विषमता वाला जिला – बांसवाड़ा को माना जाता है

Fifty-six field – Banswara and Pratapgarh terrain between the Q56 fifty villages of this part of the ground is known as the site for this reason it is called the field of fifty

छप्पन का मैदान – बांसवाड़ा व प्रतापगढ़ के मध्य का भू-भाग छप्पन का मैदान कहलाता है इस भाग प्र 56 गावो का निवास स्थल है इस कारण इसे छप्पन का मैदान कहा जाता है

Dungarpur and Banswara districts of the central part Devl-.

Dungarpur and Banswara districts jointly floral flower field area is called.

Wagd – Dungarpur and Banswara district

Bagri, Dungarpur and Banswara districts of the region’s dialect, the dialect of the Naturals says.

Note: The terms of the Rajasthan Tourism Development makes Wagd circuit.

देवल– डूंगरपुर व बांसवाड़ा जिलो के मध्य का भाग।

पुष्प क्षेत्र डूंगरपुर व बांसवाड़ा जिलो का संयुक्त रूप से पुष्प क्षेत्र कहलाता है।

वागड़ – डूंगरपुर व बांसवाड़ा जिले

बागड़ी, डुंगरपुर व बांसवाड़ा जिलो की क्षेत्र की बोली है,ओर इसे भीलों की बोली कहते हैं।

Note: यह राजस्थान पर्यटन विकास की दृष्टि से वागड़ सर्किट में आता है।

Mahi River – Mahi River MP Ammoru (edge) that extends from the side of Banswara district in Rajasthan village enters Khandu. The Banswara, Pratapgarh district on the border of the running, Dungarpur, Banswara district, making the limit enters Gujarat.

माही नदी – माही नदी मध्यप्रदेश के अममोरू(धार) से निकलती है, ओर राजस्थान में बांसवाड़ा जिले के खांदू गांव से प्रवेश करती है। ओर बांसवाड़ा, प्रतापगढ़ जिलो की सीमा पर बहते हुए, डुंगरपुर, बांसवाड़ा जिलो की सीमा बनाते हुए गुजरात राज्य में प्रवेश करती है।

Mahi Bajaj Sagar dam – on the river Mahi Banswara district.

Mahi Bajaj Sagar Project – Banswara and Dungarpur districts of this project is Apurthy of water in some talukas.

Dungarpur and Banswara districts in Rajasthan, the springs are the highest irrigation.

Gotia Amba – Mahabharata, the Pandavas had lived here for some time. Every year on the new moon of the month of Chaitra Duj fair is overwhelming.

माही बजाज सागर बांध – माही नदी पर बांसवाड़ा जिले में।

माही बजाज सागर परियोजना – इस परियोजना के अन्तर्गत बांसवाड़ा व डूंगरपुर जिलो की कुछ तहसीलों में जल आपुर्ति होती है।

राजस्थान में झरनों द्वारा सर्वाधिक सिंचाई डूंगरपुर व बांसवाड़ा जिलो में की जाती है।

घोटिया आम्बा – महाभारत काल में पांडवों ने यहां कुछ समय गुजारा था। ओर यहां पर हर साल चैत्र महीने की अमावस्या से दुज तक भारी मेला लगता है।

Cinc Brahma Temple – Cinc village built in the ancient temple of Brahma which was founded statuesqueness Maharawal Jagmal that the Charmukhon. The ancient temple of Brahma is considered one of Rajasthan

छींच ब्रह्मा मंदिर – छींच गांव में बना ब्रह्मा जी का प्राचीन मंदिर जिसमें महारावल जगमाल ने चारमुखों वाली मुर्ति की स्थापना की थी। ओर राजस्थान का दूसरा ब्रह्मा जी का प्राचीन मंदिर माना जाता है

Tripura Sundari – Talwara village located in the temple. The Tripura Sundari the faithful, and fondly called Mahalakshmi Trti mother and Tripura.

Banswara district does not currently have any wildlife sanctuary.

Most trees are found in Banswara district in Rajasthan is teak.

Banswara district of Rajasthan super critical thermal power plant is under construction.

Another nuclear power plant in Rajasthan – Napla (Banswara) in construction

त्रिपुरा सुन्दरी – यह तलवाड़ा गांव में स्थित भव्य मंदिर। ओर इसे श्रद्धालु त्रिपुरा सुन्दरी, तरतई माता एवं त्रिपुरा महालक्ष्मी आदि नाम से पुकारते हैं।

बांसवाड़ा जिले में वर्तमान में कोई भी वन्यजीव अभ्यारण्य नहीं है।

राजस्थान में सागवान के सर्वाधिक वृक्ष बांसवाड़ा जिले में पाए जाते है।

बांसवाड़ा जिले में राजस्थान का एक क्रिटिकल सुपर थर्मल पावर प्लांट निर्माणाधीन है।

राजस्थान में दुसरा परमाणु ऊर्जा संयंत्र – नापला(बांसवाड़ा) में निर्माणाधीन है।

 

share..Share on Facebook0Share on Google+0Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn0