Dholpur district Information famous places ,Fairs, temples and Industry

Rajasthan Districts 0 Comments
dholpur-map

 Dholpur district Information famous places ,Fairs, temples and Industry

We are uploading rajasthan Gk one by one topic  today upload  Dholpur district Information famous places ,Fairs, temples and Industry,Dholpur administrative units,Nihal tower,Shergarh Fort,Mazar of Syed,Glass industry, and short Trick for this related topic and usrful for for RAS,IAS,1st.2nd,3rd grad teacher, and gramsevk,patwar,rajasthan police SI, and other all Competitive Examination.

Dhaulpur-map
Dhaulpur-map

 

धौलपुर की प्रशासकीय इकाईयां (Dholpur administrative units)

Position = 26 022 “270 50 ‘north latitude

Daily Visit GK on myshort.in

760 53 ‘780 16’ east longitude

Area is 3034 square kilometers

Subsection = 5

Tehsil = 5

Panchayat Samiti = 4

Division – Bharatpur

स्थिति = 26०22′ से 27० 50′ उत्तरी अक्षांश
76० 53′ से 78० 16′ पूर्वी देशांतर
क्षेत्रफल = 3034 वर्ग किलोमीटर
उपखण्ड = 5
तहसील = 5
पंचायत समिति = 4
संभाग – भरतपुर
Installation = Dholpur Dhaval Dev Rajput dynasty founded the city of Tomar in the 11th century had had the side. The name was known then Dhavlpuri or Dhavlpur. Rajasthan government and April 15, 1982, making the state’s 27th district. And in terms of area it is the smallest district of Rajasthan. The red sandstone used in the construction to be higher because it is also known by the name of Red Diamond.

स्थापना = धौलपुर शहर की स्थापना तौमर वंश के राजपूत राजा धवल देव ने 11 वी सदी मे की थी ओर ने की थी। ओर तब इसे धवलपुरी या धवलपुर के नाम से जाना जाता था। तथा राजस्थान सरकार ने 15 अप्रैल, 1982 को राज्य का 27 वां जिला बना बना। तथा क्षेत्रफल की दृष्टि से यह राजस्थान का सबसे छोटा जिला है। यहां पर भवन निर्माण में लाल पत्थरों का प्रयोग अधिक होने के कारण इसे रैड डायमंड के नाम से भी जाना जाता है।

अन्य नाम = डांग, कोठी – धौलपुर आदि

Mckund pilgrimage – Dholpur pilgrimages to the Mckund called the Banja. It is recognized at the side of the mountain range and Gandmadn bathing shingles are reverse. Sikhs in the sixth Gru Mckund every Gobind Singh’s sword-Wise lion hunt lions hunt Gurdwara here in his memory remains. Each year the festival fills Orhar

मचकुण्ड तीर्थ – धौलपुर को मचकुण्ड को तीर्थों का भान्जा कहा जाता है। तथा यह गंधमादन पर्वतमाला पर स्थित ओर यह मान्यता है की इसमें स्नान करने से चर्मरोग दुर हो जाते हैं। ओर मचकुण्ड में सिक्खों के छठे गरू हर गोविन्द सिंह ने तलवार के एक ही वार से शेर का शिकार किया था उनकी स्मृति में यहां शेर शिकार गुरूद्वारा बना हुआ है। ओरहार हर साल मेला भरता है

machkund-temples
machkund-temples

Nihal tower – it is a Gntagr. Whose construction began in 1880 when King Nihal Singh Ram Singh at the time of the king in 1910, its work has livelong. And seven metals were used to make it India’s Largest hour.

निहाल टावर – यह एक घण्टाघर है। जिसका निर्माण राजा निहाल सिंह के समय 1880 में शुरू किया ओर 1910 में राजा रामसिंह के समय में इसका काम पुर्ण हुआ। तथा इसमें सात धातुओं का उपयोग किया गया था ओर यह भारत का सबसे बड़ा घण्टा है।

Royal pond – located in Bari was built by the Shah on the lake was the son of Jahangir, Shahjahan Khan brother Mansabdar building was built for.

तालाब शाही – बाड़ी में स्थित इस झील का निर्माण फिरोजशाह ने करवाया था ओर  इस पर बनी इमारत का निर्माण मनसबदार साले खान ने जहांगीर के पुत्र शाहजहां के लिए करवाया गया था।

Shergarh Fort – built by Maldev king of Jodhpur. Sher Shah built it again and since then it is known as Shergarh

शेरगढ़ का किला – जोधपुर के राजा मालदेव द्वारा बनवाया गया। तथा शेरशाह ने इसका पुनः निर्माण करवाया तभी से इसे शेरगढ़ के नाम से जाना जाता है

Mazar of Syed – Shergarh Sher Shah Suri built the shrine was built by the

सैय्यद की मजार – शेरगढ़ में स्थित इस मजार निर्माण शेरशाह सुरी ने करवाया था

हनहुंकार तोप – यह शेर के मुख आकृति की तोप है जिसका निर्माण महाराजा कीरत सिंह ने करवाया था। तथा इसको कारीगर सीताराम ने बनाया था।

कमल के फुल का बाग – बादशाह बाबर की आत्मकथा बाबरनामा(तुजके बाबरी) में जिस गुलाब के फुल का वर्णन है,तथा वह यही कमल के फुल का बाग है।

NOTE: The state animal resources animal Sarvdik minimum number is in Dholpur district. And the lowest of these goats, sheep, cows, camels, etc. Murgiyan number.

Naphtha and gas-based electricity plant in Rajasthan – Dholpur (330 MW) is located in

Stone Park – Dholpur (Industrial Park) is located in

Glass industry

Hi-Tech Precision Glass Factory is located in Dholpur district

Glass factory is located in the district in Dholpur Dholpur

नोट: राज्य में सार्वधिक न्यूनतम पशु सम्पदा पशु संख्या धौलपुर जिले में है। तथा इनमें सबसे कम बकरी, भेड़, गाय, ऊंट, मुर्गीयां आदि की संख्या हैं।

राजस्थान में नेप्था एवं गैस पर आधारित विधुत संयंत्र – धौलपुर(330 मेगा वाट) मे स्थित है

स्टोन पार्क – धौलपुर (औद्योगिक पार्क) मे स्थित है

कांच उद्योग

हाइटेक प्रिसिजन ग्लास फैक्ट्री धौलपुर जिले मे स्थित है

धौलपुर ग्लास फैक्ट्री मे धौलपुर जिले मे स्थित है

share..Share on Facebook0Share on Google+0Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn0