Information about Dausa District दौसा जिला के बारे मे जानकारी

Rajasthan Districts 0 Comments
Information about Dausa District

Information about Dausa District दौसा जिला के बारे मे जानकारी

Position = 260 22 ‘to 270 50’ north latitude

                760 53 ‘780 16’ east longitude

Area is 3034 square kilometers

स्थिति = 26 22′ से 27 50′ उत्तरी अक्षांश

                76 53′ से 78 16′  पूर्वी देशांतर

क्षेत्रफल = 3034 वर्ग किलोमीटर

map-of-dausa-district
map-of-dausa-district

दौसा जिले की प्रशासनिक इकाईयां (Dausa district administrative units)

Tehsil of Dausa district – 8 -6 and Panchayat committee comes in the Jaipur division

दौसा जिले की तहसील – 8 तथा पंचायत समीति -6 ओर  यह जयपुर  संभाग मे आता है

Dausa district April 10, 1991, four talukas of Jaipur, Dausa, Sikaray, Fit and designed by separating Lalsot. On August 15, 1992 in the Sawai Madhopur district Dausa Mahuva taluka also been added.

दौसा जिला 10 अपै्रल, 1991 को जयपुर की चार तहसीलों दौसा, सिकराय, बसवा एवं लालसोट को अलग करके   बनाया गया। ओर 15 अगस्त, 1992 को सवाई माधोपुर जिले की महुआ तहसील को भी दौसा में जोड़ दिया गया।

Deogiri hill named after the name of Dausa. Dausa and was considered the first capital of Kchcwah Rajputon, and the first capital of the state foundation Dudhad – Dausa (founded by Dularay). Dausa district on the border of any other state or country do not.

दौसा का नाम देवगिरी पहाड़ी के नाम पर पड़ा। दौसा तथा कच्छवाह राजपुतों की पहली राजधानी मानी जाती थी,तथा  ढुढ़ाड़ राज्य के स्थापना की प्रथम राजधानी – दौसा(धौलाराय द्वारा स्थापित)। ओर दौसा जिले की सीमा किसी भी अन्य राज्य या देश से नहीं लगती ।

महत्वपुर्ण जानकारी (Important information)

Dud River – in Dausa district Lalsot Morel gets it.

Madho Sagar / project – located in Dausa district.

Radio dam – located in Dausa district.

Dudadh circuit – Jaipur – Dausa – Amer

ढुढ नदी – दौसा जिले  के लालसोट में यह मोरेल में मिल जाती है।

माधो सागर बांध/परियोजना – दौसा जिले मे स्थित है।

रेडियो बांध – दौसा जिले मे स्थित है।

ढुढाड़ सर्किट – जयपुर – दौसा – आमेर 

Menhdipur Balaji – Balaji Temple which is located between the two basins so called deficit Menhdipur statuesqueness here is a part of the mountain.

मेंहदीपुर बालाजी – यहां बालाजी का प्रसिद्ध मंदिर है जो कि दो घाटियों के मध्य स्थित है इसलिए इसे घाटा मेंहदीपुर भी कहते हैं यहां की मुर्ति पर्वत का ही एक भाग है।

menhdipur-balaji
menhdipur-balaji

Harshat Mata temple – a temple of the sect Veshnv Portal is considered a magnificent example of art.

हर्षत माता का मंदिर – यह वेष्णव सम्प्रदाय का मंदिर जो प्रतिहार कला का अनुपम उदाहरण माना जाता है।

Mataji Temple – Temple of the mother, which is also known by the name of the goddess Scini. The ancient temple of Dausa. The temple is dedicated to Goddess Durga rare sculpture of the 12th century can be seen.

माताजी का मंदिर – यहां माता जी का मंदिर स्थित है, जो कि सचिनी देवी के नाम से भी जाना जाता है। यह दौसा का प्राचीन मंदिर है। देवी दुर्गा को समर्पित इस मंदिर में 12 वीं शताब्दी की दुर्लभ मूर्तिकला देखी जा सकती है।

Mahadev punch – five of Dausa district in the temple of Lord Shiva as Shaznath, Somnath, Gupteshwar, etc. sits Bejdnath and jay.

पंच महादेव – दौसा जिले के मंदिर में भगवान शिव के पांच रूप सहजनाथ, सोमनाथ, गुप्तेश्वर, बेजड़नाथ और नीलकंठ आदि विराजमान है।

Note: Dausa is a wildlife sanctuary.

Terikota (pottery and toys) – Fit, is Prasid Dausa district.

Note: दौसा में कोई वन्यजीव अभ्यारण्य नहीं है।

टेरिकोटा(मिट्टी के बर्तन व खिलौने) – बसवा, दौसा जिले के प्रसीद है।

 

share..Share on Facebook0Share on Google+0Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn0