Rajasthan’s handicraft राजस्थान की प्रमुख हस्तकला part 2

Rajasthan Culture, Rajasthan GK 0 Comments

Rajasthan’s handicraft  राजस्थान  की प्रमुख हस्तकला part 2

(1)पॉटरी(Pottery)

पॉटरी/चीनी मिट्टी के बर्तन पर बनाई जाती है यह

(a).ब्ल्यू पॉटरी (Blue pottery)- यह जयपुर की प्रमुख प्रसिद है

इसका आगमन – पर्शिया(ईरान)

सवाई रामसिंह प्रथम के काल में हुआ था 

इसके प्रमुख प्रसिद कलाकार – श्री कृपाल सिंह शेखावत

Pottery
Pottery

(b).ब्लैक पॉटरी(Black Pottery) – कोटा  की प्रमुख प्रसिद है

(c) सुनहरी पॉटरी(Golden pottery) – बीकानेर की प्रमुख प्रसिद है

(d) कागजी पॉटरी(Paper Pottery) – अलवर की प्रमुख प्रसिद है

(2) कपड़े की बुनाई (Fabric weaving)

ऊनी कंबल -इरानी एवं भारतीय पद्धति के कालीन  जयपुर, बाड़मेर, बीकानेर ,जोधपुर, अजमेर के प्रमुख प्रसिद है

ओर वियना व फारसी गलीचे – बीकानेर के प्रमुख प्रसिद है

नमदे – टोंक, बीकानेर के प्रमुख प्रसिद है

लोई – नापासर(बीकानेर)  की प्रमुख प्रसिद है 

कोटा डोरिया – कैथून(कोटा) की प्रमुख प्रसिद है 

मसूरिया – कैथून(कोटा), मांगरोल(बांरा) की प्रमुख प्रसिद है

खेसले – लेटा(जालौर), मेड़ता(नागौर)  के प्रमुख प्रसिद है 

दरियां – जयपुर, अजमेर, लवाणा(दौसा), सालावास(जोधपुर), टांकला(नागौर) की प्रमुख प्रसिद है 

(3) चित्र हस्तकला (Picture handicraft)

पिछवाईयां – नाथद्वारा(राजसमंद) की प्रमुख प्रसिद है 

मथैरण कला – बीकानेर की प्रमुख प्रसिद है

पुरानी कथाओं पर आधारित देवताओं के भित्तिचित्र बनाना

(4) उस्तकला (Ustkla)- बीकानेर की प्रमुख प्रसिद है

ऊंट की खाल पर स्वर्णिम नक्काशी की जाती है 

इसके प्रमुख प्रसिद कलाकार कलाकार – हिस्सामुद्दीन उस्ता थे

(5) टेराकोटा(Terracotta)(मिट्टी के बर्तन एवं खिलौने) – मोलेला(राजसमंद), बनरावता(नागौर), महरोली(भरतपुर), बसवा(दौसा) की प्रमुख प्रसिद है

कागजी टेरीकोटा – अलवर की प्रमुख प्रसिद है

सुनहरी टेरीकाटा – बीकानेर की प्रमुख प्रसिद है

(6) पीतल हस्तकला (Brass handicraft)

पीतल की खुदाई, घिसाई एवं पेटिंग्स – जयपुर, अलवर की प्रमुख प्रसिद है

बादला – जोधपुर का प्रमुख प्रसिद है

मरुस्थल मे पानी को ठण्डा रखने के लिए इस जस्ते से निर्मित बर्तन का निर्माण किया जाता है 

(7) चमड़ा हस्तकला (Leather craft)

नागरी एवं मोजडि़या – जयपुर, जोधपुर की प्रमुख प्रसिद है 

बिनोटा – दुल्हा- दुल्हन की जुतियां को कहा जाता है

कशीदावाली जुतियां – भीनमाल(जालौर) की प्रमुख प्रसिद है

(8) लकड़ी हस्तकला(Wooden handicraft)

काष्ठकला – जेढाना(डूंगरपुर), बस्सी(चित्तौड़गढ़), की प्रमुख प्रसिद है  

बाजोट – चौकी को कहते हैं।

कठपुतलियां – उदयपुर की प्रमुख प्रसिद है 

लकड़ी के खिलौने – मेड़ता(नागौर) के  प्रमुख प्रसिद है 

लकड़ी की गणगौर, बाजोर, कावड़, चैपडत्रा – बस्सी(चित्तौड़गढ़) की प्रमुख प्रसिद है

(9) कागज हस्तकला (Paper handicraft)

कागज बनाने की कला – सांगानेर, स. माधोपुर की प्रमुख प्रसिद है

पेपर मेसी(कुट्टी मिट्टी) – जयपुर की प्रमुख प्रसिद है 

कागज की लुग्दी, कुट्टी, मुल्तानी मिट्टी एवं गोंद के पेस्ट से वस्तएं बनाना।

(10) तलवार (sword)

सिरोही, अलवर, अदयपुर की प्रमुख प्रसिद है

(11) तीर कमान (Arrows)

चन्दूजी का गढ़ा(बांसवाड़ा) की प्रमुख प्रसिद है

बोड़ीगामा(डूंगरपुर)

More click Here:Rajasthan’s Handicraft राजस्थान की प्रमुख हस्तकला Part1

 


Bank PO clerk, SSC, Railway (RRB), IBPS, UPSC, IAS, RAS, SBI, 1st 2nd 3rd grade teacher,REET, TET, Rajasthan police SI, Delhi police, के महत्वपूर्ण सवाल जवाब के लिए रजिस्टर करे
आप करेंट अफेयर्स, Job, सामन्य ज्ञान ओर सभी exams संबंधित Study Material की जानकारी हैतु इस पेज को Like and Visit करे
https://www.facebook.com/myshort.Trick
and WWW.myshort.in

share..Share on Facebook0Share on Google+0Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn0