Who created Natyasastra

Description

information regarding plays classical dramaturgy says. This information is the oldest known treatise also the author of dramatics were Bharata Muni. Bharata Muni is considered near the period 400

Music, drama and acting as the sole book Bart mini the dramaturgy is highly regarded today. Theatrical creation not only the rules of dramaturgy rather Actors Theatre and observers assess the fulfillment of these three elements is the means of discussion. 37 chapters Bharata muni Nritygeetvady the acting stage actor, audience, Dsrupak and analyzing all the facts relating to the conclusion juice. Bharata's Natya Shastra is clear from the study The success of the play is not only based on the author's talent, but with the support of the various arts and artists is due

नाटकों के संबंध में शास्त्रीय जानकारी को नाट्य शास्त्र कहते हैं। इस जानकारी का सबसे पुराना ग्रंथ भी नाट्यशास्त्र के नाम से जाना जाता है जिसके रचयिता भरत मुनि थे। भरत मुनि का काल ४०० ईपू के निकट माना जाता है।

संगीत, नाटक और अभिनय के संपूर्ण ग्रंथ के रूप में भारतमुनि के नाट्य शास्त्र का आज भी बहुत सम्मान है। उनका मानना है कि नाट्य शास्त्र में केवल नाट्य रचना के नियमों का आकलन नहीं होता बल्कि अभिनेता रंगमंच और प्रेक्षक इन तीनों तत्वों की पूर्ति के साधनों का विवेचन होता है। 37 अध्यायों में भरतमुनि ने रंगमंच अभिनेता अभिनय नृत्यगीतवाद्य, दर्शक, दशरूपक और रस निष्पत्ति से संबंधित सभी तथ्यों का विवेचन किया है। भरत के नाट्य शास्त्र के अध्ययन से यह स्पष्ट हो जाता है कि नाटक की सफलता केवल लेखक की प्रतिभा पर आधारित नहीं होती बल्कि विभिन्न कलाओं और कलाकारों के सम्यक के सहयोग से ही होती है