Who is Discovered The Proton

Description

Ernest Rutherford (अर्नेस्ट रदरफोर्ड)

The only difference between the alpha, beta, and gamma rays used in almost all experiments of physical-chemical was the Ernest Rutherford. He was awarded the Nobel Prize in 1908 for contributions to Ernest Rutherford in Nuclear Physics.

भौतिक रसायन के लगभग सभी प्रयोगों में उपयोग होने वाली अल्फा, बीटा और गामा किरणों के बीच अंतर बताने वाले वैज्ञानिक अर्नेस्ट रदरफोर्ड ही थे। न्यूक्लियर फिजिक्स में अर्नेस्ट रदरफोर्ड के योगदान के लिए 1908 में उन्हें नोबल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

Before the theory of the atomic structure of Ernest Rutherford, the presence of atom in the substance was detected, but the information about the atom was forwarded to it, the efforts made by Ernest Rutherford forwarded them.

अर्नेस्ट रदरफोर्ड के परमाणु संरचना के सिद्धांत से पहले पदार्थों में परमाणु की उपस्थिति का पता तो चल सका था, किन्तु परमाणु के बारे में जो जानकारी थी उसे आगे गति दी अर्नेस्ट रदरफोर्ड के किए प्रयोंगों ने।

Years ago Maharishi Kanad had told that every substance is made up of very small particles [please add quotation]. In 1808, Britain's physicist John Dalton on the basis of his experiments told that the substances that are made up of inseparable particles are called atoms. An independent existence of these atoms is possible.

सालों पहले महर्षि कणाद ने यह बता दिया था कि प्रत्येक पदार्थ बहुत छोटे−छोटे कणों से मिलकर बना है[कृपया उद्धरण जोड़ें]। 1808 में ब्रिटेन के भौतिक विज्ञानी जॉन डाल्टन ने अपने प्रयोगों के आधार पर बताया कि पदार्थ जिन अविभाज्य कणों से मिलकर बना है उन्हें परमाणु कहते हैं। इन परमाणुओं का स्वतंत्र अस्तित्व संभव है।

Ernest Rutherford's scientific mind was not satisfied with this kind of interpretation of electrons inside the atom, he used many more experiments for satisfaction. In 1911, he used an experiment to know the structure of the atom in which he survived some thin white foil in front of the screen in some vacuum. The results of the experiment were astonishing to surprise.

अर्नेस्ट रदरफोर्ड का वैज्ञानिक दिमाग परमाणु के अंदर इलेक्ट्रान की इस तरह की व्याख्या से संतुष्ट नहीं था, संतुष्टि के लिए उन्होंने कई और प्रयोग किए। परमाणु के अंदर की को संरचना जानने के लिए 1911 में उन्होंने एक प्रयोग किया जिसमें उन्होंने निर्वात में स्क्रीन के सामने रखी एक पतली स्वर्ण पन्नी में से कुछ अल्फा किरणों को गुजारा। प्रयोग के परिणाम आश्चर्य चकित करने वाले थे।