Who is Famous Author Megasthenes (मेगस्थनीज)

Description

Megasthenes (350 BC - 290 BC) was an ambassador of Greece who came to the court of Chandragupta. With the desire of the expansion of the Greek Empire Silicus, then in India, 305 BC India had invaded, but he had to be forced to negotiate. According to the treaty, Ambassador of Megasthenes came to the court of Chandragupta. He remained in the court of Chandragupta for many years. What he saw in India is described in the book "Indica"And Megasthenes has a very detailed and detailed description of Pataliputra. He writes that India's largest city is Pataliputra. This city is situated on the confluence of the Ganges and the Son. Its length is nine and a half miles and the width is two miles. There is a wall around the town in which many gates and fortifications are made. Most of the city's houses are made of wood.

मेगस्थनीज (350 ईसापूर्व - 290 ईसा पूर्व) यूनान का एक राजदूत था जो चन्द्रगुप्त के दरबार में आया था। यूनानी सामंत सिल्यूकस भारत में फिर राज्यविस्तार की इच्छा से 305 ई. पू. भारत पर आक्रमण किया था किंतु उसे संधि करने पर विवश होना पड़ा था। संधि के अनुसार मेगस्थनीज नाम का राजदूत चंद्रगुप्त के दरबार में आया था। वह कई वर्षों तक चंद्रगुप्त के दरबार में रहा। उसने जो कुछ भारत में देखा, उसका वर्णन उसने "इंडिका" नामक पुस्तक में किया है मेगस्थनीज ने पाटलिपुत्र का बहुत ही सुंदर और विस्तृत वर्णन किया है। वह लिखता है कि भारत का सबसे बड़ा नगर पाटलिपुत्र है। यह नगर गंगा और सोन के संगम पर बसा है। इसकी लंबाई साढ़े नौ मील और चौड़ाई पौने दो मील है। नगर के चारों ओर एक दीवार है जिसमें अनेक फाटक और दुर्ग बने हैं। नगर के अधिकांश मकान लकड़ी के बने हैं।

 

Born = 350 BC, (Anatolia)

Died = 290 BC

Books= Ancient India As Described by Megasthenes and Arrian, a Tr. of the Fragments of the Indika of Megasthenes Collected by Dr. Schwanbeck and of the 1st P