Dungarpur (डूंगरपुर) District Information Famous Fort, Places,Fairs And Temples Pin cord

Rajasthan Districts 0 Comments
dungarpur-district

Dungarpur (डूंगरपुर) District Information Famous Fort, Places,Fairs And Temples Pin cord

We are uploading rajasthan Gk one by one topic  upload important questions today uploading  about  Dungarpur (डूंगरपुर) District Information Famous Fort, Places,Fairs And Temples Pin cord and Information About,Famous Places,Fairs And Temples Pin Code … And Temples ,Pin Code 327001 and The Banswara district lies in the southernmost part of Rajasthan. It is surrounded by Pratapgarh in the north, Dungarpur and Dungarpur district Map showing major roads, district boundaries, and Travel to Rajasthan · Wildlife Sanctuaries Map · Forts and Palaces .and The place is famous for the ruins of temples which truly represent ancient Rajput architecture. … Some of the popular festivals of Dungarpur include Beneshwar Fair and this topice always useful for RAS,IAS,1st.2nd,3rd grad teacher, and gramsevk,patwar,rajasthan police SI, RRB And all Railway exams and other

 

डूंगरपुर की प्रशासनिक इकाईयां Dungarpur administrative units

dungarpur-district-map
dungarpur-district-map

स्थिति = 23०20′ से 24० 10′ उत्तरी अक्षांश

Daily Visit GK on myshort.in

73० 21′ से 74० 23′  पूर्वी देशांतर

क्षेत्रफल = 3770 वर्ग किलोमीटर (1.10%)

उपखण्ड = 19

तहसील = 9

पंचायत समिति = 10

संभाग  = उदयपुर

जनसख्या =  1,388 ,552लाख

दशकीय वृद्धिदर =2.03%

लिंगानुपात =994

स्थापना = It is believed that the establishment of Dungarpur district Dungria Bhil Ancient name was ki Dhani. The Dungria (Dungrsinh) was the ruler of the Rawal Veer Singh Dungarpur win state established.

ऐसा माना जाता है कि डुंगरपुर जिले का प्राचिन नाम डूंगरिया भील की ढाणी था। ओर डूंगरिया (डूंगरसिंह) यहां का सरदार था, जिसे रावल वीर सिंह ने जीत कर डूंगरपुर राज्य की स्थापना की।

महत्वपुर्ण जानकारी Important information

That is 23 1/2 degrees latitude south of the Tropic of Cancer in the districts of Dungarpur, Banswara passes.

Dungarpur district is the smallest district on the border of Gujarat

 Deval / Dungarpur and Banswara districts Mevlia = is the central part of

 Dungarpur and Banswara districts jointly floral flower field area is called.

 Wagd – Dungarpur and Banswara districts of the terrain is

 Lingaanupat most of Rajasthan (994) is a district.

 Snmpuarn Dungarpur district of Rajasthan is considered literate district

Bagri, Dungarpur and Banswara districts of the region’s dialect, the dialect of the Naturals says.

कर्क रेखा अर्थात 23 1/2 डिग्री अक्षांश राज्य के दक्षिण में बांसवाड़ा डुंगरपुर जिलो से गुजरती है।

गुजरात की सीमा पर सबसे छोटा जिला डूंगरपुर जिला है

देवल/मेवलिया = डूंगरपुर व बांसवाड़ा जिलो के मध्य का भाग आता है

पुष्प क्षेत्र डूंगरपुर व बांसवाड़ा जिलो संयुक्त रूप से पुष्प क्षेत्र कहलाता है।

वागड़ – डूंगरपुर व बांसवाड़ा जिलो का भू-भाग आता है

यह राजस्थान का सबसे अधिक लिंगाअनुपात(994) वाला जिला है।

डूंगरपुर जिला राजस्थान का संम्पुर्ण साक्षर जिला भी माना जाता है।

बागड़ी, डुंगरपुर व बांसवाड़ा जिलो की क्षेत्र की बोली है, ओर इसे भीलों की बोली कहते हैं।

Mahi River River  = Ammoru (edge) of the Niklr, Khandu village of Banswara district in Rajasthan enters. Banswara, Pratapgarh districts bordering on the flowing, Dungarpur, Banswara district, making the limit enters Gujarat

माही नदी = माही नदी मध्यप्रदेश के अममोरू(धार) से निकलर है, राजस्थान में बांसवाड़ा जिले के खांदू गांव से प्रवेश करती है। बांसवाड़ा ओर प्रतापगढ़ जिलो की सीमा पर बहते हुए, डुंगरपुर, बांसवाड़ा जिलो की सीमा बनाते हुए गुजरात में प्रवेश करती है।

Beneshwar = Aspur Mon, Mahi, Jakm located at the confluence of the sacred forest dwellers Mahatirth is located. It also called on tribal Aquarius. Shiva is worshiped in India and only Khanndit.

बेणेश्वर = आसपुर में सोम, माही, जाखम नदियों के संगम पर स्थित वनवासियों का पवित्र महातीर्थ स्थित है। ओर इसे आदिवासियों का कुम्भ भी कहा जाता है। तथा यहां भारत में एकमात्र खंण्डित शिवलिंग की पूजा होती है।

Mon = caterpillar – AMBA Project – Mon River is located in Dungarpur district

 Mahi Bajaj Sagar Project Banswara and Dungarpur districts of this project = talukas of the water is Apurthy.

 Bikhabai Sagvadha canal is located in Dungarpur district =

 Gab Sagar Raj Rajeswari = This lakeside temple.

 Dungarpur and Banswara districts in Rajasthan, the springs are the highest irrigation.

 Note = The district does not currently have any wildlife sanctuary.

सोम = कमला – अम्बा परियोजना – सोम नदी पर डूंगरपुर जिले मे स्थित है

माही बजाज सागर परियोजना = इस परियोजना के अन्तर्गत बांसवाड़ा व डूंगरपुर जिलो की कुछ तहसीलों में जल आपुर्ति होती है।

भीखाभाई सागवाड़ा नहर = डूंगरपुर जिले मे स्थित है

गैब सागर = इस झील के किनारे राज राजेश्वरी को मंदिर स्थित है।

राजस्थान में झरनों द्वारा सर्वाधिक सिंचाई डूंगरपुर व बांसवाड़ा जिलो में की जाती है।

नोट = इस जिले में वर्तमान में कोई भी वन्यजीव अभ्यारण्य नहीं है।

Dungarpur district of Rajasthan trend = Bayla program VII (7) under the Rajiv Gandhi Plan started.

 Dungarpur district is located in the most Mahua tree.

 Galiakot = Bohra community in the Sagvadha main pilgrimage site, the shrine of Syed Fakhruddin is located. It seems every year the URS.

 Miran = Wagd of Gvri temple known as Bai Bai Gvri temple was built Maharawal Shivsinh established.

राजस्थान के डूंगरपुर जिले में रूख = भायला कार्यक्रम सातवीं (7)पंचवर्षीय योजना के अन्तर्गत राजीव गांधी ने प्रारम्भ किया।

महुआ के सर्वाधिक वृक्ष डुंगरपुर जिले में स्थित है

गलियाकोट = यह सागवाड़ा में बोहरा सम्प्रदाय का मुख्य तीर्थ स्थल, सैयद फखरूद्दीन की मजार स्थित है। ओर यहां हर वर्ष उर्स लगता है।

गवरी बाई का मंदिर = वागड़ की मीरां के नाम से प्रसिद्ध गवरी बाई का मंदिर महारावल शिवसिंह ने स्थापित करवाया था।

Temple of Saint Mavji = Sabla temple located in the village, the Kalki Avatar of Lord Vishnu is believed Mavji.

 Deo Somnath = an Ancient Shiva temple on the banks of the Mon Ndi, and without cement, lime is made by adding white stones.

 Rajasthan Tourism Development in terms of district makes Wagd circuit.

 Beneshwar Festival = Dungarpur (Magh purnima) is celebrated in the district

 Rmkdha (soft stone carving objects created) = Galiakot, is located in Dungarpur district

संत मावजी का मंदिर = साबला गांव में स्थित मंदिर, ओर मावजी को भगवान विष्णु का कल्कि अवतार माना जाता है।

देव सोमनाथ = यह सोम नदि के किनारे बना एक प्राचिन शिव मंदिर है, तथा जो बिना सिमेन्ट, चूने के सफेद पत्थरों को जोड़ कर बनाया गया है।

राजस्थान पर्यटन विकास की दृष्टि से यह जिला वागड़ सर्किट में आता है।

बेणेश्वर महोत्सव = डुंगरपुर(माघ पुर्णिमा) जिले मे मनाया जाता है

रमकड़ा(सोफ्ट स्टोन को तराश कर बनाई गई वस्तुएं) = गलियाकोट, डुंगरपुर जिले मे स्थित है

 

 

share..Share on Facebook0Share on Google+0Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn0