President of India भारत का राष्ट्रपति

Indian GK, Indian Political Science, Rajasthan Political Science 0 Comments
President of India

President of India भारत  का राष्ट्रपति 

Article 52 provides for the presidency Article – 53 The executive power of the Union shall be vested in the President, Prime Minister and Council of Ministers as per the advice which she will

Article 52 राष्ट्रपति पद का प्रावधान किया गया है Article – 53 संघ की कार्यपालिका शक्ति राष्ट्रपति में निहित होगी जिसका प्रयोग वह प्रधानमंत्री और मंत्रिपरिषद की सलाह के अनुसार करेगा।

Article – 54 Vidhansnbaon elected member of the Parliament and the President of the electorate participate. Amendment 70 1992. Under the covers Delhi and Puducherry. Nominated in the election of the President and Members of the Legislative Council is not involved.

Article – 54 राष्ट्रपति का निर्वाचक मण्डल इसमें संसद और विधानसंभाओं के निर्वाचित सदस्य भाग लेते है। 70 वां संविधान संशोधन 1992 द्वारा दिल्ली और पांडिचेरी को इसके अन्तर्गत शामिल किया गया है। राष्ट्रपति के निर्वाचन में मनोनीत तथा विधान परिषदों के सदस्य भाग नहीं लेते है।

Article = -55 electoral system is not proportional method Aklsnkramniy

Article =-55 निर्वाचन की विधि  एकलसंक्रमणीय अनुपातिक मत पद्धति से होता है

Article = 56 President’s term or post-term 5 years

Article = 56 राष्ट्रपति का कार्यकाल या पद अवधि 5 वर्ष

Article = 57 Purnnirwacit merit of being president

Article = 57 राष्ट्रपति पुर्ननिर्वाचित होने की योग्यता

Article =58 राष्ट्रपति बनने की योग्यता (Ability to be president)

वह भारत का नागरिक हो

आयु 35 वर्ष

He is not working as a benefit, Vice Governor, the Minister is not an office of profit.

Be eligible to be a member of the Lok Sabha.

Article – 59 Presidential Term

Official residence of the President will use. Designation is not possible during the period of his wages cut. Her salary is paid from the Consolidated Fund of India.

वह किसी लाभ के पद पर कार्यरत न हो उपराष्ट्रपति, राज्यपाल, मंत्री लाभ के पद नहीं है।

उसमें लोकसभा सदस्य बनने की योग्यता हो।

अनुच्छेद – 59 राष्ट्रपति पद के लिए शर्त

राष्ट्रपति शासकीय आवास का प्रयोग करेगा। पद अवधि के दौरान उसके वेतन भत्तों में कटौती संभव नहीं है। उसे वेतन भारत की संचित निधि से दिया जाता है।

नोट- राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के लिए 50 प्रस्तावक व 50 अनुमादक आवश्यक है। जमानत राशि – 15,000 रूपये। कुल वैध्य मतों का 6 हिस्सा प्राप्त करना आवश्यक। निर्वाचन की अवधि दो सप्ताह या पन्द्रह दिन।

Article = 60 राष्ट्रपति की शपथ (President’s oath)

सर्वोच्च न्यायलय के मुख्य न्यायधीश अनुपस्थिति में वरिष्टम न्यायधिश द्वारा शपथ दिलाई जाती है।

Article = 61 Mahaviog removed before the term can Anrtgt. Vice President gives his resignation. It gives information to the Vice Speaker 1/4 members proposal is to give 14 days’ prior notice to the President. It is proposed by 2/3 majority of Parliament. Yet the president has not brought Mahaviog proposal.

Article =61 के अन्र्तगत कार्यकाल से पूर्व महावियोग से हटा सकते है। अपना त्याग पत्र उपराष्ट्रपति को देता है। उपराष्ट्रपति इसकी सुचना लोकसभा अध्यक्ष को देता है।1/4 सदस्यों के प्रस्ताव पर 14 दिन की पूर्व सुचना राष्ट्रपति को देनी होती है। ऐसा प्रस्ताव संसद के 2/3 बहुमत से प्रस्तावित है। अभी तक किसी राष्ट्रपति पर महावियोग प्रस्ताव नहीं लाया गया है।

Article =- 62 राष्ट्रपति पद की आकस्मिक रिक्तिता

राष्ट्रपति की शक्तियां (President’s powers)

(1)राष्ट्रपति की व्यवस्थापिका अन्तर्गत शक्तियां (Under the President’s legislative powers)

(A) Article = 79 Under the President is an integral part of Parliament or legislative.

(a) Article =79 के अन्तर्गत राष्ट्रपति संसद या व्यवस्थापिका का अभिन्न अंग है।

(B) Article = 80 (2) under the President has nominated 12 members to the Rajya Sabha.

(b) Article = 80(2) के अन्तर्गत राष्ट्रपति राज्य सभा में 12 सदस्यों को मनोनित करता है।

(C) Article = 331 under the two members (Anglo Indian) is nominated in the Lok Sabha.

(c) Article = 331 के अन्तर्गत दो सदस्यों को(एंग्लो इंडियन) लोक सभा में मनोनित करता है।

(D) Article = 85 Ahut parliament under the President, the right to prorogue and dissolve. 

(d) Article = 85 के अन्तर्गत राष्ट्रपति संसद का सत्र आहुत, सत्रावसान और भंग करने का अधिकार।

(E) Article = 86 at the beginning of each session and the first session of the Lok Sabha and the newly formed Joint Session Abhibhashit (speech) is

(e) Article = 86 प्रत्येक सत्र के प्रारम्भ में तथा नवगठित लोक सभा का पहला सत्र तथा संयुक्त् अधिवेशन को अभिभाषित(भाषण) करता है।

Article = 87 Abhibhashit President of Parliament each year is the first level by the speech Mtrimndl is prepared.

Article =87 संसद का प्रत्येक वर्ष का प्रथम स्तर राष्ट्रपति अभिभाषित करता है इसका भाषण मत्रिमण्डल द्वारा तैयार किया जाता है।

Under this Article = 99 President Protem Speaker (temporary president) appoints.

Article = 99 इसके अन्तर्गत राष्ट्रपति प्रोटेम स्पीकर (अस्थायी अध्यक्ष) की नियुक्ति करता है।

Article = 110 Dnvidheyk are placed in the Lok Sabha with the prior approval of the President. Speaker Pramanit it does.

Article = 110 धनविधेयक राष्ट्रपति की पूर्व अनुमति से लोकसभा में रखा जाता है। इसे लोकसभा अध्यक्ष प्रमाणीत करता है।

Article = 108 right to summon a joint session of Parliament

Article =  108 संसद के संयुक्त अधिवेशन को बुलाने का अधिकार

(2)कार्यपालिका सम्बंधी शक्तियां (Related executive powers)

Article = 53 union executive power is vested in the President.

Article = 53 संघ की कार्यपालिका शक्ति राष्ट्रपति में निहित होती है।

Article = 74 have been described in the Council of Ministers.

Article =  74 इसमें मंत्रीपरिषद का वर्णन दिया है।

Article = 75 appointed by the Prime Minister.

Article =  75 प्रधानमंत्री की नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा।

Article = 76 appointed by the attorney general.

Article =  76 महान्यायवादी की नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा।

Article = 148 Controller and Auditor General appointed by the President.

Article =  148 नियंत्रक व महालेखा की नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा।

Article = 155 Governor appointed by the President.

Article = 155 राज्यपाल की नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा।

Article = 280 the right to appoint the National Finance Commission. (1 Speaker $ 4 members)

Article = 280 राष्ट्रीय वित्त आयोग की नियुक्ति करने का अधिकार।(1 अध्यक्ष$4 सदस्य)

Article = 338 Scheduled Castes, Scheduled Tribes Commission the power to appoint.

Article =  338 अनुसुचित जाति, अनुसुचित जनजाति आयोग की नियुक्ति करने का अधिकार।

Article =  340 ओ. बी. सी. आयोग की नियुक्ति का अधिकार। उच्चायोक्त व विदेशों में राजदूत नियुक्त करने का अधिकार।

(3)सैन्य शक्ति (military power)

राष्ट्रपति सेना का सर्वोच्च कमाण्डर होता है।

(4)न्यायीक शक्तियां (Nyayik powers)

Article = 124 इसके अन्तर्गत मुख्या न्यायधीश सहित अन्य न्यायधीश की(सर्वोच्च न्यायलय) न्युक्ति करता है।

Article = 216 के अन्तर्गत उच्च न्यायलय में मुख्य न्यायधीश व अन्य न्यायधीशों की नियुक्ति करता है।

Article =  72 राष्ट्रपति की माफी प्रदान करने का अधिकार – राष्ट्रपति मृत्युदण्ड को पूर्णतय माफ कर सकता है। सजा की अवधि बदल सकता तथा प्रकृति को परिवर्तीत कर सकता है।

Article =  123 राष्ट्रपति की अध्यादेश जारी करने की शक्ति। सिफारिश मंन्त्रीपरिषद या मत्रिमण्डल की अधिकतम अवधि 6 माह और 6 सप्ताह

Note:जब संसद सत्र नहीं चल रहा हो और ऐसे कानुन बनाने की आवश्यकता पड़ जाये जो अपरिहार्थ(अनितात आवश्यक) हो तो राष्ट्रपति अध्यादेश जारी कर सकता है। इसमं संसद के कानुन के बराबर शक्ति होती है।

(6)राष्ट्रपति की आपातकालीन शक्तियां (President’s emergency powers)

भाग – 18  Article = राष्ट्र आपाल काल का प्रावधान

कारण – युद्ध, युद्ध जैसा वातावरण, आन्तरिक अशान्ति(44 वां संविधान संशोधन 1978 हटा दिया इसकी जगह सशस्त्र विद्रोह रखा है।)

सिफारिश – मंत्रिपरिषद की लिखित।

एक माह में संसद के दो तिहाई बहुमत से पारित होना आवश्यक।

एक बार में 6 माह के लिए लगाया जा सकता हैं।

अब तक तीन बार राष्ट्र आपातकाल लगाया गया है।

अक्टुबर 1962, भारत चीन युद्ध के समय(प. जवाहरलाल नेहरू)

कोलम्बो प्रस्थाव लाया गया – यदास्थिति को बनाये रखने के लिए।

दिसम्बर 1971 – भारत पाक दुसरा युद्ध(वी. वी. गिरी राष्ट्रपति)

3 जुलाई 1972 आन्तरिक आपातकाल इन्दिरा गांधी ने लगाया जो मार्च 1977 तक चला ।(फकरूदीन अली अहमद राष्ट्रपति)

Article =  356 राज्यों में राष्ट्रपति शासन (President’s rule in the states)

सिफारिश – मंत्रीमरिषद की लिखित

कारण – राज्यों में शासन सवैधानिक प्रक्रिया से नहीं चालाया जाना

राज्यपाल की सिफारिश या राष्ट्रपति स्वंय घोषणा कर सकता है। इसे दो माह में संसद के 2/3 बहुमत से पारित होना आवश्यक है।

एक बार में 6 माह के लिए तथा लगातार तीन वर्ष तक निर्वाचन एक बार में 6 माह के लिए तथा लगातार तीन वर्ष तक निर्वाचन आयोग की सिफारिश पर लगाया जा सकता है।

सर्वाधिक दस बार उत्तरप्रदेश में उससे कम केरल में 9 बार लगाया। राजस्थान में 4 बार –

1967 मोहन लाल सुखाडिया के समय(सबसे कम समय 44 दिन)

1977 भैरों सिंह शेखावत सरकार के समय

1980 हरदेव जोशी सरकार के समय

1992 भैरोंसिंह शेखावत सरकार के समय(सर्वाधिक समय लगभग 1 वर्ष)

Article =  360 वित्तीय आपातकाल (Financial Emergency)

भारत में अभी तक प्रयोग नहीं किया है।

More click Here:Fundamental Duties Of Citizens Of India भारत के नागरिको के मौलिक कर्तव्य

Next part coming soon ralated all President of India

 

share..Share on Facebook0Share on Google+0Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn0